वज्र कोर ने मनाया 72वां स्थापना दिवस

VAJRA CORE JALANDHAR CANTT

KARTARPUR EXCLUSIVE (BEURO) | भारतीय सेना की वज्र कोर स्वतंत्रता के बाद 01 मार्च 1950 को गठित पहली सेना कोर थी। आज वज्र कोर जालंधर कैंट में स्थापना की 72वीं वर्षगांठ मना रहा है। इस अवसर पर वज्र कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल देवेंद्र शर्मा ने वज्र शौर्य स्थल पर उन वीरों को श्रद्धांजलि अर्पित की जिन्होंने कर्तव्य के दौरान अपने प्राणों की आहुति दी।
कोर ने विभिन्न युद्धों में प्रमुख पश्चिमी मोर्चे पर अपनी क्षमता साबित की है और साहसए उत्साह और वीरता के साथ अपने उद्देश्यों को प्राप्त किया है। पंजाब स्थित कोर ने 1965 और 1971 के संघर्ष के दौरान कुछ भीषण लड़ाइयों को देखा है। खेमकरण में पैटन टैंकों के कब्रिस्तान से लेकर बरकी और डोगराई पर कब्जा करने तक व्यक्तिगत और सामूहिक बहादुरीए वीर बलिदान और प्रेरक नेतृत्व के कई कार्यों ने यह सुनिश्चित किया है कि वज्र कोर ने राष्ट्र के इतिहास को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। वज्र कोर की इकाइयों को थिएटर ऑनररू श्पंजाबश् और बैटल ऑनर्स से सम्मानित किया गया है | जिसमें डोगराईए बरकीए असल उत्तरए सहजरा और डेरा बाबा नानक शामिल हैं और इस लिए इसे डिफेंडरस आफ पंजाब के नाम से भी जाना जाता है।
इस महत्वपूर्ण अवसर परए कोर कमांडर ने सभी रैंकों को राष्ट्र की सेवा के लिए खुद को फिर से समर्पित करने का संकल्प लेने का आह्वान किया। उन्होंने सभी रैंकों से भविष्य में किसी भी चुनौती का सामना करने के लिए सक्रिय रूप से तैयार रहने का आग्रह किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.